World's 1st Sindhi internet magazine

since 2001 in the srvice of Sindhyat

Award winner website SINDHYAT AWARD 2010

Akhil Bharat Sindhi Boli ain Sahit Sabha

Dear viewers, Jai Jhulelal
Sindhigulab.com
is a complete Arbi Sindhi Web magazine, It is the India's first magazine publishing monthly in Sindhi.
Some of its pages you can watch in Devnagari & English also.

21 January 1900

Asha Chand - DUBAI

Dada Murij Manghnani -DUBAI

Shri Notan Tolani Hongkong

Shri Lal Hardasani Hongkong

Shri Chetan Ramchandani-DUBAI

Shri Chandru Manghnani Mumbai

Shri Dilip Bulchandani-DUBAI

Follow us on

Free Sindhi Matrimonials

Regester & make Contact FREE

SINDHIYOG.com

Huge Collection of

Sindhi DVDs & CDs

Sindhi Films, Songs,

Dramas, Programs ...

Click here for LIST

Website developed by

Dilip Tekchandani

e-mail

Sindhi DVDs

& CDs

collection List

Custom Search

PROUD TO BE SINDHI

SINDHI

BOLI

 

चेटी चण्डु- असांजी आस्था जो प्रतीक           - भग॒वान बा॒बा॒णी

 

    चेटी चण्डु सिंधी हिंदुनि जो वडे॒ में वडो॒ डि॒णु आहे जेको हर साल विक्रम सम्बत जे चेट महिने जी बी॒ज तिथि ते मल्हायो वेंदो आहे।

 

      भारत में अलग॒-अलग॒ मज़हब, ज़ातियूं ऐं त़ब्क़ा आहिनि। हर मज़हब, ज़ाती ऐं तबक़े जा पंहिंजा-पंहिंजा डि॒ण वार आहिनि। जीअं पंजाबियुनि जो 'वैसाखी', ड॒खण भारत वारनि जो 'ओणम' वग़ैरह। इहे डि॒ण नओं फ़स़लु लहण या नएं साल शुरू थियण जी ख़ुशीअ में मल्हाया वेंदा आहिनि। सागी॒ तरह देश जे विरहाङे खां पहिरीं अखंड भारत जे सिंधु प्रदेश में चेटी चण्ड जो डि॒णु बि फगु॒ण महिने खां पोइ जड॒हिं सिंधू नदी लहंदी हुई त पाण सां गडु॒ आंदल उपजाऊ मिट्टी (जंहिंखे 'लटु' चइबो आहे) आसपास छडे॒ वेंदी हुई। इहा मिट्टी या लटु उपजाऊऐं खेतनि खे सर-सब्ज़ करण वारी हूंदी हुई, जंहिंकरे चारों तरु सावक छांइजी वेंदी हुई ऐं भाजि॒यूं ऐं अनाज जा फ़स़ल सुठा थींदा हुआ। अवाम में ख़ुशहाली छांइजी वेंदी हुई। आम   लोक इन ख़ुशीअ जो इज़हार करण लाइ इन डि॒ण खे 'चेटी-चण्ड' जे रूप में मल्हाईंदा हुआ।

 

      हिंदू सिंधियुनि लाइ इहो डि॒णु मल्हाइण जा ब॒ बि॒या बि सबब आहिनि - हिकु त हिन डीं॒हं खां विक्रम-सम्बत् जो नओं सालु शुरू थींदो आहे। इहो नओं सालु सिंधु सां गडु॒ ओलह ऐं ड॒खण भारत जे बि॒यनि बि घणनि ई प्रांतनि में बि मल्हायो वेंदो आहे। सिंधी हिंदुनि लाइ हिन डि॒ण जो सभ खां वडो॒ महत्व इहो आहे त हीउ सिंधियुनि जे इष्ट-देव झूलेलाल जो जनमु-डीं॒हुं बि आहे। झूलेलाल या उडे॒रोलाल जल ऐं ज्योतीअ जो देवता आहे।

 

      चयो वञे थो त सिंधु जे ठटे शहर जो बादशाह मिर्खुशाह तमामु ज़ालिम ऐं कट्टर सुभाअ जो हो। हमेशह चापलूसनि जे घेरे में रहंदो हो, जिनि खेसि सलाह डि॒नी त जेकड॒हिं हू इस्लाम मज़हब जो फहिलाउ कंदो त खेसि जन्नत में हूरूं नस़ीब थींदियूं। उन्हनि जे गा॒ल्हियुनि में अची मिर्खशाह ऐलानु कयो त संदसि राज॒ में जेके बि हिंदू रहनि था उहे सभु इस्लाम इख़्तियार कनि न त खेनि ज़िंदह रहणु न डि॒नो वेंदो। इहो बु॒धी आसपास जे सभिनी गो॒ठनि जे हिंदू पंचायतुनि जे मुखियुनि पाण में गडि॒जाणी करे इन गा॒ल्हि ते वीचारु कयो त गीता में भग॒वान श्रीकृष्ण चयो आहे त जड॒हिं-जड॒हिं धरम ते कष्टु ईंदो आहे त ज़ालिमनि जो नासु करण मां ख़ुदि अवतार वठीईंदो आहियां, तंहिंकरे सिंधू नदीअ जे कप ते हली आराधना कयूं ऐं ईश्वर अगि॒यां बा॒डा॒यूं त असांखे मिर्खशाह जे ज़ुलिमनि खां छोटिकारो डि॒यारे ऐं धरम ते आयल संकट जो निवारणु करे।

 

      सभिनी हिंदुनि सिंधू नदीअ जे कप ते वञी विरित रखिया एं सख़्त तपस्या कई। आख़िर चालीहें डीं॒हुं ईश्वर संदनि आस अघाई ऐं आकाशवाणी थी - " तव्हां सभु पंहिंजनि घरनि में वञो, मां तव्हांजी रख्या करण लाइ अठें महिने खां पोइ नस़रपुर रहाकू भाई रतनचंद जे घरि माता देवकीअ जी कुखु मां जनमु वठंदुसु।" इन आकाशवाणीअ ते विश्वासु रखी हिंदुनि मिर्खशाह खां अठनि महिननि जी मुहलत वरिती।

 

      इन्हनि चालीहनि डीं॒हंनि जे विरित खे अजु॒ बि चेटी चण्ड खां अठ महिना अगु॒ चालीहे जे रूप में हर साल मल्हायो वेंदो आहे।

 

      टिनि महिननि खां पोइ माण्हुनि खे पतो पियो त माता देवकीअ खे गर्भु थियो आहे, जंहिं ते हुननि घणियूं ख़ुशियूं मल्हायूं। ख़ुशियुनि जो इहो डीं॒हुं अजु॒ बि 'असू चण्ड' जे रूप में हर साल सिंधियुनि पारां मल्हायो वेंदो आहे।

 

      आकाशवाणी थियण जे अठें महिने खां पोइ चेटी चण्ड डीं॒हुं माता देवकीअ खे हिकु पुटु जा॒ओ जंहिंजी आज्यां करण लाइ इन्द्र देवता चेट जे महिने में बि ख़ूब बरसात वसाई। हिक बां॒भण बा॒लक जो नालो रखियो- 'उदयचंद' जंहिंजो संस्कृत भाषा में मतलब आहे- 'चण्ड जहिड़ी रोशनी डीं॒दड़ु, त नस़रपुर में ई रहंदड़ हिक पंजाबी निजूमीअ खेसि 'उडे॒रो' नालो डि॒नो। संस्कृत में उडे॒रो जी माना आहे 'जेको पाणीअ जे नज़दीक हुजे'। ऐं, नस़रपुर जा रहाकू खेसि अमरलाल करे कोठींदा हुआ। जड॒हिं बा॒लक खे पींघे में सुम्हारियो वेंदो हो त पींघो पाण्हे ई झूलण लगं॒दो हो तंहिंकरे संदसि हिकु नालो 'झूलेलाल' बि आहे।

 

      चमत्कारी बा॒लक जी जनम जी ख़बर मिर्खशाह ताईं बि पहुती। हुन मुखियुनि खे घुराए पुछियो त तव्हां कड॒हिं था इस्लाम क़बूलु कयो ? तंहिंते मुखियुनि हिमथ सां जवाबु डि॒नो, "चिंता न करि असांखे बचाइण वारो अवतारु वठी चुको आहे ऐं उहो जल देवता आहे झूलेलाल।" तंहिंते मिर्खशाह खिली चयो, "इहो बा॒रु छा हिंदुनि खे बचाईंदो ! ... न मां ई मरी रहियों आहियां ऐं न ई तव्हां हीअ धरती छडे॒ वञी रहिया आहियो, जड॒हिं तव्हांखे बचाइण वारो पाण ई इस्लाम क़बूलु कंदो त मूंखे पक आहे त तव्हां बि पाण्हे ई करे छडीं॒दा ।"       इन हूंदे बि मिर्खशाह खे बा॒लक जे बारे में उणितुणि ज़रूरी हुई त आख़िर इहो कहिड़ो बा॒लकु आहे जंहिंते हिंदू एतिरो कुडी॒रहिया आहिनि !

 

      हुन 'अहीरो' नाले पंहिंजे हिक वज़ीर खे नस़रपुर मोकलियो त वञी डि॒सी अचे। अहीरे दोलाब खां कमु वरितो। हुन हिकु ज़हर बु॒ड॒लु गुलाब जो गुलु खंयो ऐं रतनचन्द जे घर वञी उन खे चयाईं त खेसि बा॒लक वटि वठी हले। अहीरो बा॒लक जी हिक झलक डि॒सी ईवाइड़ो थी वियो। हुन पंहंजी हयातीअ में कड॒हिं एतिरो सुहिणो ऐं ख़ूबस़ूरत बा॒रु न डि॒ठो हो। हू थोरो हिबि॒क्यो पर पोइ पंहिंजन ड॒कंदड़ हथनि सां उहो गुलाब जो गुलु बा॒लक जे चपनि डां॒हुं वधायाईं त उडे॒रेलाल मुस्कुराए करे गुल खे हलकी फूक डि॒नी त गुलु अहीरे जे हथ मां उडा॒मी तमामु परे वञी किरियो। वरी जड॒हिं बा॒लक जीअं ई पंहिंजो मुंहुं खोलियो त अहीरे डि॒ठो त संदसि मुंहं में सिंधू दरियाहु वही रहियो हो ऐं अछी डा॒ढ़ीअ वारो हिकु बुज़ुर्गु 'पले' ते सुवार थी तरी रहियो हो। थोरी देरि खां पोइ अहीरे डि॒ठो त पींघे में बा॒लकु कोन हो, उन जी जग॒हि ते अछी डिघी डा॒ढ़ीअ वारो बुज़ुर्गु 'घोड़े' ते सुवार हो। अचानक ई उहो अछी डा॒ढ़ीअ वारो बुज़ुर्गु सोरहनि सालनि जो जवानु बणिजी वियो। नज़ारो वरी बदिलियो, अहीरे डि॒ठो त उडे॒रोलाल तलवार खणी घोड़े ते वेठो आहे ऐं संदसि पुठियां बहादुर सिपाहियुनि जी फौज आहे। उहो नज़ारो हिक जंग जे मैदान जो हो। अहीरे जे सजे॒ बदन में ड॒कणीअ जी लहर छांइजी वेई ऐं हू उडे॒रेलेल जे क़दमनि ते किरी पियो ऐं बा॒डा॒इण लगो॒, " हे सिंधु जा मालिक! रहमु करि। मूंखे पक थी त हाणे सिंधु जा हिंदू महफ़ूज़ आहिनि।"

 

      वापस अची अहीरे समूरो क़िस्सो मिर्ख शाह खे बु॒धायो। पर मिर्खशाह पंहिंजी होड॒ ते क़ाइमु रहियो ऐं अहीरे खे चयाईं, "लगे॒ थो, तो को जादू डि॒ठो आहे। हिकु बा॒लकु कीअं हिक ई पल में बा॒लक मां बुज़ुर्ग, पोइ जवानु ऐं वरी जोधो लड़ाकू वीरु बणिजी सघे थो?...नामुमकिन !"

 

      पर अहीरे जे मुंहं मां उडे॒रेलाल जूं करामतूं बु॒धी, मिर्खशाहु दिल ई दिल में डा॒ढो डिजी॒ वियो हो ऐं उन ईराति हुन सुपिने में बि उडे॒रेलाल जा उहे चमत्कार डि॒ठा। बि॒ए डीं॒हुं हुन वज़ीर वज़ीर अहीरे सां इहा गा॒ल्ह कढी त अहीरे खेसि सलाह डि॒नी त इंतज़ारु करि ऐं डि॒सु !

 

      बा॒लकु वडो॒ थियो। इन विच में मुल्ला मौलवी मिर्ख शाह ते ज़ोरु विझण लगा॒ त हिंदुनि खे इस्लाम क़बूल कराइ न त तोखे काफिर ज़ाहिर कंदासीं। मिर्खशाह न पिए चाहियो त संदसि मथां 'काफिर' जो ठपो लगे॒। सो सोचियाईं त जंग करण खां पहिरीं हिकु दफो उडे॒रेलाल सां रूबरू मुलाक़ात कजे। इन विच में मिर्खशाह जो वज़ीर अहीरो उडे॒रेलाल जो पुजा॒री बणिजी चुको हो। हुन उडे॒रेलाल ऐं मिर्खशाह जी मुलाक़ात कराई। उडे॒रेलाल मिर्खशाह के समझायो त पंहिंजे आसपास जेकी कुझु बि शयूं ऐं जीव तूं डि॒सी रहियो आहीं, उहे सभु ईश्वर पारां ठाहियल आहिनि तंहिंकरे इंसान उन उपाइणहार जी आराधना कनि था। हिंदू खेसि भग॒वान करे मञीनि था त मुसलमान अल्लहु करे। बि॒न्ही में को फ़र्क़ु कोन्हे। मिर्खशाह खे गा॒ल्हि समझ में आई ऐं हू संदसि क़दमनि ते किरी पियो। अहिड़ी तरह झूलेलाल हिंदुनि खे मिर्खशाह जे ज़ुलिमन खां निजात डि॒यारी।

 

      भारत जे दर्दनाक विरहाङे खां पोइ सिंधु प्रदेश मां लडे॒ आयल हिंदू सिंधी अझे, अटे ऐं लटे जी तलाश में भारत जी कुंड कुर्छ में फहिलजी विया, कणो कणे खां धार थी वियो। सिंधु जी ऊच ऐं आला सभ्यता ऐं संस्कृतीअ जे ख़तमु थियण जो अंदेशो थियण लगो॒। अहिड़ी हालति में सिंधियुनि जे लाड॒ले प्रो. रामपंजवाणीअ खे हिक रोशनीअ जी किरण नज़र आई। हुन महसूस कयो त नईं जग॒हि ते सिंधी दुखी इनकरे आहिनि जो हुननि वटि न पैसो आहे, न ज़मीन ऐं न भग॒वान। दादा राम पंजवाणीअ खेनि इन्हनि डु॒खन खां छोटिकारो डि॒यारण लाइ - " जेको चवंदो झूलेलाल, तंहिंजा थींदा बे॒ड़ा पारि "- जी धुनीअ जे रूप में सिंधियुनि अंदरि हिक आशा जी चिणिंग दुखाई। धरतीअ जी हर कुंड में फहिलियल सिंधियुनि दरियाह शाह खे यादि करणु शुरू कयो ऐं दरियाह शाह बि संदनि दुखनि खे ख़तमु करण में उएं ई मदद करणु शुरू कई जीअं मिर्खशाह जे अत्याचारनि खां छडा॒इण में कई हुआईं।

 

      जहिड़ी तरह महाराष्ट्र में आज़ादीअ जो अलखु जगा॒इण लाइ लोकमान्य तिलक गणपति या गणेशोत्सव शुरू कयो तहिड़ी तरह दादा राम पंजवाणीअ सिंधी सभ्यता ऐं संस्कृतीअ खे ज़िंदह रखण लाइ चेटी-चण्ड खे 'सिंधियत-डीं॒हुं' जे रूप में मल्हाइणु चालू कयो। हिन डीं॒हं ते मुल्क जे हर उन शहर ऐं गो॒ठ में जिते सिंधी रहनि था, सिंधी स़क़ाफ़त जूं झांकियूं लगा॒इण ऐं सिंधी संगीत ऐं गायकीअ जा मेला लगा॒इणु चालू कयाईं। संदसि इन कोशिश सां भारत में आयल सिंधियुनि जे मन मां निराशा जा बादल छटण लगा॒, हिक ईश्वर में आस्था पैदा थियण लग॒नि ऐं भारत में रही करे बि सिंधी संस्कृती ऐं लोक-संगीत खे बचाइण ऐं वाधारे जी राह रोशन थियण लगी॒। भारत जे सिंधियुनि में अजु॒ बि जेका थोरी-घणी सिंधियत लाइ हुब॒ ऐं सिक या सुञाणप बची आहे, उनजी समूरी सोभ इन्हनि चेटी-चण्ड जे मेलनि खे आहे। छो त, अजु॒ बि हर साल-चेटी चण्ड डीं॒हुं न सिर्फ भारत में पर दुनिया जे हर मुल्क में जिते बि सिंधी आहिनि, उते वडे॒ उत्साह, उमंग, श्रद्धा ऐं आस्था सां मल्हायो वेंदो आहे। ऐं, इन में पेश थींदड़ सिंधी गीत-संगीत जे कार्यक्रमनि सां नईं पीढ़ीअ ताईं थोरी घणी सिंधी सभ्यता जी जा॒ण पहुची रही आहे।

 

- भग॒वान बा॒बा॒णी,

 

बी-14, लेकसिटी एन्क्लेव,

 

संत हिरदाराम नगर, भोपाल